Breaking News

बीते 24 घंटे में 7 हजार पॉजिटिव मामले, 1 मई से अब तक चार गुना बढ़े केस

देश में अब तक कुल 1,38,845 मामले सामने आए हैं। वहीं देश में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 4021 हो गया है। बीते 24 घंटे में रेकॉर्ड सात हजार कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल 77,103 एक्टिव केस
बीते 24 घंटे में रेकॉर्ड सात हजार कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए
देश में अब तक एक लाख 38 हजार से ज्यादा मामले, 4 हजार से ज्यादा लोगों की मौत
80 फीसदी मामले पांच प्रदेशों से आ रहे हैं
नई दिल्ली
देश में सोमवार को लगातार चौथे दिन, एक दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक मामले सामने आए और करीब 7,000 नये मामले सामने के बाद देश में संक्रमण के कुल मामले 1.4 लाख के पार चले गये। एक मई के बाद से मामलों की संख्या चार गुना हो गयी जिस दिन प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए विशेष ट्रेनें शुरू की गयी थीं। देश में कोविड-19 संक्रमण से मृतक संख्या 4,000 के आंकड़े को पार कर गयी जिसमें एक मई की तुलना में तीन गुने से अधिक का इजाफा हुआ है। इस अवधि में इलाज करा रहे रोगियों की संख्या भी तीन गुनी से अधिक हो गयी है। उस समय से सही हो चुके कोविड-19 रोगियों की संख्या भी छह गुने से अधिक बढ़कर करीब 60,000 पर पहुंच गयी है।
1 मई के बाद बढ़े केस
स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक मई को सुबह आठ बजे अपने अपडेट में देश में संक्रमित रोगियों की कुल संख्या करीब 35,000 बताई थी। उस दिन तक 1,150 लोगों की मृत्यु हो चुकी थी। उस तारीख में 8,900 लोग सही हो चुके थे और 25,000 से अधिक लोगों का इलाज चल रहा था। तब से अब तक संक्रमित रोगियों की संख्या चार गुना हो गयी है। मौत के मामले तीन गुना से अधिक बढ़ गये हैं और इलाज करा रहे रोगियों की संख्या में भी लगभग इतना ही इजाफा हुआ है। हालांकि सही हो चुके रोगियों की संख्या उस स्तर की तुलना में छह गुना से अधिक बढ़ गयी है। भारतीय रेलवे ने एक मई से ही प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्यों तक पहुंचाने के लिए विशेष श्रमिक रेलगाड़ियां चलाना शुरू किया था।
80 फीसदी मामले पांच प्रदेशों से
बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु और दिल्ली में लगातार संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं, वहीं बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, ओडिशा और झारखंड में भी रोगियों की संख्या दूसरे राज्यों से विशेष ट्रेनों से प्रवासियों की वापसी शुरू होने से पहले दर्ज संख्या से दस गुना अधिक तक हो गयी है। नगालैंड में सोमवार को कोविड-19 के पहले तीन मामले सामने आए जहां चेन्नई से विशेष ट्रेन से लौटे दो पुरुषों और एक महिला में कोरोना वायरस संक्रमण का पता चला है। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला जनवरी के आखिर में सामने आया था, लेकिन नगालैंड तब से संक्रमण से मुक्त रहा है।
नागालैंड भी नहीं रहा कोरोना फ्री
सोमवार को नागालैंड में तीन पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इनमें से दो पुरुष और एक महिला है जोकि हाल ही में एक विशेष ट्रेन से चेन्नई से राज्य लौट आए थे। भारत का पहला COVID-19 मामला जनवरी के अंत में सामने आया था लेकिन नागालैंड अब तक इससे मुक्त था। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, रेलवे ने 1 मई से 3,060 प्रवासी विशेष रेलगाड़ियों में लगभग 40 लाख प्रवासी श्रमिकों को उतारा है। ये ट्रेनें सबसे अधिक पांच राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश और ओडिशा के लिए रवाना हुई हैं।
पैदल घरों की ओर निकल पड़े थे श्रमिक
कोरोनावायरस के कारण 25 मार्च से लॉकडाउन चल रहा है जिसके चलते अर्थव्यवस्था के साथ-साथ लाखों प्रवासी श्रमिकों की आजीविका पर भी विनाशकारी प्रभाव पड़ा है। लॉकडाउन के बाद हजारों मजदूरों को पैदल ही सड़कों से अपने घरों के लिए निकल पड़े थे। इनमें से कई मजदूर सड़क हादसों का भी शिकार हो गए। महाराष्ट्र में तेज रफ्तार ट्रेन की चपेट में आने के बाद प्रवासी मजदूरों के एक समूह की मौत हो गई थी। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र में सोमवार को 2,436 नए मामले और 60 मौतें हुईं।
ये भी पढ़े :-
  • आपके हथेली की इन रेखाओ में छिपा है आपके जीवन का रहस्य, जानिए और खुद समझिये
  • महिलाओं के इन अंगो की बनावट और उन पर बने निशान लाते हैं सौभाग्य, जानिए
  • अब पैसे रखने के लिए खरीद लो तिजोरी क्योंकि इन 3 रशिवालो की बदलने वाली है किस्मत.
  • ये बीज बदल कर रख देता किस्मत, कंगालों को भी बनाता करोड़पति, खोजने निकल जाइए अभी
  • close