Breaking News

शादियों में ढोल बजाने वाले की होनहार बेटी,12 वी में कर दिखाया कमाल, जिसने पढ़ने के जूनून के आगे ग़रीबी को पीछे छोड़ दिया

मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ़ सेकेंडरी एजुकेशन ने 27 जुलाई 2020 को 12वीं के परिणाम घोषित किए, जिसमें प्रदेश के कुल 68.81 प्रतिशत बच्चे सफल रहे. पास होने वाले इन बच्चों में एक नाम मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित सेठी नगर बस्ती में रहने वाली दिव्या बनेले का भी है. दिव्या 12वीं में 500 में से 367 अंक लेकर आई. कहने के लिए वो प्रदेश की टॉपर नहीं है मगर जिन परिस्थितियों में दिव्या ने पढ़ाई जारी रखी और 74 प्रतिशत नंबर लेकर आई, वह अपने आप में बड़ी बात है.

 उसकी कहानी उन लोगों के लिए प्रेरणा है, जो लोग गरीबी के आगे घुटने टेक देते हैं और जीवन भर अपनी किस्मत को कोसते रहते हैं. दरअसल, दिव्या एक बेहद गरीब परिवार से हैं. उसके पिता तिलोक बनेले एक ढोल वादक है. शादी-ब्याह जैसे मौकों पर वो अपनी इस कला के दम पर कुछ पैसे कमा लेते हैं. मगर इससे घर का ख़र्च नहीं चलता था. दिव्या की मां ने भी घर चलाने के लिए काम करना शुरू किया.

वो दूसरों के घरों में झाड़ू-पोछे का काम करती हैं. आर्थिक रूप से कमज़ोर होने के कारण दिव्या के लिए अपनी पढ़ाई जारी रखना आसान नहीं था. मगर मां चाहती थी कि उनकी बेटी ख़ूब पढ़े. इतना पढ़े कि उनके घर की गरीबी दूर हो जाए. मां के इस सपने को पूरा करने के लिए दिव्या ने भी ख़ुद को पूरी तरह से पढ़ाई को समर्पित कर दिया. मां के काम पर रहने पर वो घर के सारे काम खुद निपटाती है. इसके बाद बचे हुए टाइम को वो पढ़ाई में ख़र्च करती है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close