Breaking News

आर्टिकल 370 को हटे हुआ एक साल, एक साल में बदल गया कश्मीर, आतंकी संगठनों को नहीं मिल रहा कोई बंदूक उठाने वाला

हिजबुल मुजाहिदीन के कुख्यात दहशतगर्द रियाज नायकू को पुलवामा में सेना ने मुठभेड़ के बाद मार गिराया था जो भारतीय सुरक्षाबलों की बड़ी कामयाबी है। जिसके बाद जो सिलसिला आतंकियों को ढ़ेर करने का शुरू हुआ जिसमे रियाज नायकू के खास और अलगाववादी अशरफ सेहरई के बेटे जुनैद सेहरई सहित हिजबुल के कई बड़े आतंकी उमर फय्याज, जहांगीर, वसीम अहमद वानी और मसूद भट को भी सेना ने मार गिराया। भारतीय सुरक्षाबलों ने बीते एक वर्ष में कई बड़े आतंकी संगठनों के बड़े आतंकी को ढ़ेर किया है जिसकी वजह अब सेना के खिलाफ हथियार उठाने वाले भी अब बचे नहीं है।
लश्कर-ए-ताइबा के बशीर कोका, हैदर, इशफाक रशीद, आतंकी संगठन अंसार गजवा तुल हिंद के बुरहान कोका, पाकिस्तानी आईईडी एक्सपर्ट अबू रहमान और जैश-ए-मोहम्मद के सज्जाद अहमद डार, सज्जाद नवाबी, कारी यासिर सेना ने मार गिराया वहीं 25 बड़े आतंकियों के साथ 300 से ज्यादा उनके मददगारों को भी गिरफ्तार किया गया है। जिसकी वजह से ही घाटी के रौनक लौट आई है। वर्ष 2019 में घाटी में 188 आतंकी वारदातें हुई, वहीं वर्ष 2020 में वारदातें हुई। 2019 में 51 ग्रेनेड हमलें हुए तो वहीं 2020 में 21 ग्रेनेड हमले हुए।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close