Breaking News

ऑनलाइन मास्क की खऱीदी सूरत के व्यापारी को पड़ी महंगी, 48 लाख का लगा चुना, फर्जी वेबसाइट और फर्जी एअरपोर्ट बनाकर खेला प्लान.....

रिपोर्ट के अनुसार मोटा वराछा सुदामा चौक में रहनेवाले अरविंद कुमार जीवराज भाई भायाणी ने जो कि मूल भावनगर के हैं उन्होंने 8 तारीख को सर्जिकल मास्क खरीदने के लिए गूगल पर सर्च किया था। जिस पर मिले मोबाइल नंबर के आधार पर उन्होंने चैटिंग कर जानकारी ली। सामने वाले व्यक्ति ने उन्हें खुद को बैंकॉक की जेबी मेडिकल डिस्पोजेबल एक्टिंग डायरेक्टर ऑफ सेल्स एंड मार्केटिंग के तौर पर परिचय दिया था और एक सर्टिफिकेट भी भेजा। उसने अपना नाम जुमाना मेपोली बताया और एन-95 तथा नॉन वॉवन मास्क का कोटेशन भी भेज दिया। इसके बाद व्यापारी अरविंद कुमार ने अलग-अलग प्रकार के साढ़े आठ लाख मास्क के आर्डर दे दिए।

साथ ही जुमाता मेबोली ने जो अकाउंट की जानकारी दी थी उसमें बारी-बारी से 32.55 लाख रुपए ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद जुमाना ने एक्सपोर्ट कंपनी के एयर-वे बिल की कॉपी भी व्हाट्सएप पर भेज दी और बताया कि ऑर्डर रवाना हो चुका है। साथ में शिपमेंट ट्रैकिंग कोड भी भेज दिया। ट्रैकिंग कोड के आधार पर सर्च करने पर मार्क का कंटेनर दुबई के जबल अली पोर्ट तक पहुंच चुका था।

इसके बाद दुबई पोर्ट पर कस्टम ब्रोकरेज और लाइसेंस के लिए 15.59 लाख रुपए चुकाने की बात कही गई थी। इस पर व्यापारी ने जुमाना से बात की तब उसने कहा कि बाद में मैं चुका दुंगा। उसकी बात में आकर अरविंद भाई ने उसके अकाउंट में 15.20 लाख रुपए और जमा करा दिए। इसके पश्चात भी उसने 1440 डॉलर और मांगे तब अरविंद भाई को शक हुआ। वेबसाइट बनाकर उसने कोटेशन आदि भेजकर इस तरह से अरविंद भाई को 48 लाख रुपए की चपत लगा दिया। फिलहाल अरविंद भाई ने साइबर क्राइम पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close