Breaking News

नही बाज आ रहा चीन, तो चीन के एक और बड़ा झटका देने की तैयारी में भारत, ठप हो जाएगी अर्थव्यवस्था

एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा "स्पष्ट रूप से, अगर हम सीमा पर शांति चाहते हैं, तो हमें पिछले समझौतों का पालन करना होगा।" उन्होंने बताया कि भारत ने राजनयिक व सैन्य वार्ता के कई दौर के बावजूद एलएसी के बीच सीमा पर गतिरोध से संबंधित "बकाया मुद्दों" को तेजी से हल करने की आवश्यकता पर भी बल दिया है।" 
जब उनसे सवाल किया गया कि भारत के दृष्टिकोण से कौन सा अमेरिकी राष्ट्रपति बेहतर होगा, तो मंत्री ने कहा "यदि आप पिछले चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों, दो रिपब्लिकन और दो डेमोक्रेट पर नजर डालते हैं, तो सब दूसरे से बहुत अलग हैं
फिर भी, सबने भारत के साथ संबंधों के स्तर को और ऊपर उठाया. कई राजनेताओं के अलग-अलग समूह जो कई मुद्दों पर अकसर असहमत होते हैं वे भारत की कई बातों पर सहमत हैं और मुझे लगता है कि यह बहुत अच्छी बात है।"गौरतलब है कि हाल ही में एलएसी पर तनाव बढ़ने के बाद भारत ने चीन की रणनीतिक घेराबंदी तेज कर दी है और कई चीनी सामानों के आयात पर प्रतिबन्ध लगा चुका हैं। यहां तक के चीन के अधिकांश मोबाइल एप भी भारत में प्रतिबंधित कर दिए गये हैं। अब भारतीय तेल कंपनियां चीन से कच्चा तेल खरीदना बंद करके उसे एक और बड़ा झटका देने वाली हैं।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close