Breaking News

भारत के ऐसे पांच लोग जिन्होंने गरीबी से लड़कर आसमान की ऊंचाइयों को छुआ, इनके जीवन के परिश्रम को जानकर रह जाओगे दंग

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम - कलाम जी का जन्म एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था। इनके पिता एक नांव के मालिक थे। कलाम जी ने पिता की मदद के लिए एक अखबार विक्रेता के रूप में काम किया। इतनी कठिन परिस्थित के बाबजूद भी कलाम जी ने भौतिकी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसके साथ ही एरो स्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन किया। आगे चलकर कलाम जी 2002 में भारत के राष्ट्रपति बने।
नरेंद्र दामोदर दास मोदी -एक चाय विक्रेता से भारत के प्रधान मंत्री तक का सफ़र तय करने वाले मोदी जी का भी नाम इस सूची में आता हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री से गोधरा हिंसा में दोषी कहे गए ,मगर इन्होने भी कठिन मेहनत की और आगे ही बढ़ते गए। और आज वे देश के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति बने।
सुशील कुमार -इन्होने कुश्ती के क्षेत्र में अपना नाम रोशन किया। इनके पिता एक बस कंडक्टर हैं और माता गृहणी हैं। इन्हें 2006 में अर्जुन अवार्ड से सम्मानित भी किया गया। सुशील कुमार पहले भातीय एथलीट हैं जिन्होंने भारत के लिए दो ओलम्पिक पदक हांसिल किये।
मोहम्मद शमी अहमद -इनका जन्म 3 सितम्बर 1990 को उत्तर प्रदेश के अमरोहा में हुआ था। ये भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदवाज के रूप में जाने जातें हैं। शमी का जन्म भी एक गरीब किसान परिवार में हुआ था। इनके पिता मामूली किसान हैं।
धीरू भाई अम्बानी -ये भी बहुत ही गरीब परिवार से थे ,और 16 वर्ष की ही उम्र में यमन चले गये थे ,वहां इन्होने एक क्लर्क की तरह काम किया। कुछ समय बाद वो वापस आ गए और अपने दोस्त चम्पक लाल डवानी के साथ एक छोटा सा बिजनेस शुरू किया किन्तु इनके दोस्त की सोच अलग थी इसी कारण ये दोनों लोग अलग -अलग हो गए। फिर भी अम्बानी ने अपना संघर्ष नहीं छोड़ा। इसके बाद वो स्टॉक मार्केट में आ गए। उनकी स्टॉक डीलिंग ने की सफलता ने उन्हें इस मुकाम पर पहुंचाया था। आज उनका नाम देश के हर आदमी की जुवान पर है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close