Breaking News

विकास दुबे के मारे गए साथी प्रभात का पिता अरेस्ट, बोला-'जैसा मेरे बेटे ने किया वैसा उसे फल मिला', एसपी ग्रामीण बोले- जारी है पूछताछ

चौबेपुर थाना क्षेत्र स्थित बिकरू गांव में रहने वाले राजेंद्र मिश्रा और उसका बेटा प्रभात मिश्रा विकास दुबे के खास गुर्गो में था। बीते 2 जुलाई की रात राजेंद्र मिश्रा ने पिस्टल से बदमाशों पर गोलियां बरसाईं थी। राजेंद्र ने अपने घर की छत से अपने बेटे प्रभात के साथ मिलकर पुलिसकर्मियों को निशाना बनाया था।

राजेंद्र मिश्रा ने बताया कि घटना की रात विकास दुबे ने जेसीबी लगवाई थी। इस घटना में गांव के अमर दुबे, प्रेम प्रकाश, शशिकांत, श्यामू बाजपेई, दयाशंकर, जिलेदार, बालगोविंद दुबे, शिवम दुबे, उमाकांत थे। इसके साथ ही बाहर से कई बदमाशों को बुलाया गया था। इसके बाद विकास ने सभी को छत पर भेज दिया था। विकास ने कहा था कि जैसे ही पुलिसकर्मी पहुंचे सभी लोग फायरिंग शुरू देना।


राजेंद्र मिश्रा ने कहा 'मेरे बेटे प्रभात का विकास दुबे ने ब्रेनवॉश कर के अपने पास रखा था। विकास दुबे जो कहता था, मेरा बेटा वही काम करता था। विकास दुबे का इतना आंतक था कि मैं उसका विरोध नहीं कर पाता था। मेरा बेटा उनके साथ था, जैसा मेरे बेटे ने किया उसे वैसा फल मिला। विकास दुबे खुंखार आतंकवादी था, उसके सामने किसी की बोलने की हिम्मत नहीं थी।'

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close