Breaking News

स्वीडन में किशोरों के साथ बलात्कार और जिंदा दफनाने की कोशिश से भड़के थे ईसाई,स्वीडन के बाद नार्वे से भी उठी मुसलमान शरणार्थी निकालने की मांग

स्वीडन में दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने दक्षिणी शहर मालमो में पवित्र कुरान को आग के हवाले कर दिया। इस घटना के विरोध में 300 लोग एकत्र हुए जिसके बाद दंगा भड़क गया। पुलिस ने शनिवार बताया कि दंगाइयों ने शुक्रवार को आगजनी की और पुलिस तथा राहत सेवा दल को निशाना बनाया जिसमें कई पुलिस अधिकारी मामूली रूप से घायल हो गए। दंगे के आरोप में करीब 15 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

टीटी समाचार एजेंसी की खबरों के अनुसार शुक्रवार दोपहर कुरान जलाए जाने की घटना के बाद हिंसा भड़क उठी। खबरों में कहा गया कि दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने कुरान जलाने की घटना को अंजाम दिया और और इसका वीडियो बनाकर ऑनलाइन पोस्ट कर दिया।

सच यह है

हाल ही में स्वीडन के स्कॉटहोम के सोलना इलाके में एक कब्रिस्तान में दो किशोर लड़कों के साथ कथित तौर पर बलात्कार किया गया, उसे यातनाएँ दी गई और फिर उसे जिंदा दफना दिया गया।

घटना शनिवार सुबह लगभग 11 बजे की है। पुलिस का कहना है कि लड़कों द्वारा एक प्रस्ताव को ठुकरा दिए जाने के बाद दोनों को कब्रिस्तान ले जाया गया। बताया जा रहा है कि अपराधी माइग्रेंट बैकग्राउंड से हैं। बता दें कि यह स्वीडन के धुर दक्षिणपंथी समूह ‘Stram Kurs’ की ओर से कुरान बर्निंग रैली आयोजित करने के विरोध में माल्मो शहर में भड़के दंगों से 6 दिन पहले की घटना है।

रात के समय अचानक से जुटे मुस्लिम दंगाइयों ने मजहबी नारों के साथ हिंसा शुरू कर दी। उनकी संख्या 300 के करीब बताई जा रही है। जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो उन्होंने पत्थरबाजी शुरू कर दी। पुलिस ने इस बात की पुष्टि की है कि 1 दिन पहले कुरान जलाए जाए के कारण ही ये हिंसा हुई है।

इस घटना में 21 साल के ईरानी आप्रवासी और स्वीडन में ट्यूनीशियाई पिता से पैदा हुए एक 18 साल के आरोपितों ने पीड़ित लड़कों को जबरन गड्ढे में जिंदा आंशिक रूप से दफन कर दिया था। अपराधियों पर यह भी आरोप है कि उन्होंने उनके साथ बलात्कार किया। संदिग्धों पर अपहरण, हमले, डकैती और बलात्कार के आरोप लगाए गए हैं।

स्‍वीडन में इस्‍लाम विरोधी हिंसक प्रदर्शनों के बाद अब इसकी आग पड़ोसी देश नार्वे तक फैल गई है। नार्वे की राजधानी ओस्‍लो में शनिवार को इस्‍लाम विरोधी और इस्‍लाम समर्थकों के बीच हिंसक प्रदर्शन हुए हैं। बताया जा रहा है कि प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिमों की पवित्र किताब कुरान की प्रतियों को फाड़ दिया। इन प्रदर्शनों का आयोजन नार्वे के धुर दक्षिणपंथी संगठन स्‍टॉप इस्‍लामाइजेशन ऑफ नार्वे (SIAN) ने किया था।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close