Breaking News

ये है दुनिया का सबसे बफादार कुत्ता, इस वफादार बहादुर कुत्ते पर डाक टिकट भी हो चुका है जारी, किया था ऐसा काम जानकर रह जाओगे दंग ....

बहुत लम्बे समय से हिमालयन शीपडॉग पहाड़ी चरवाहों के सबसे प्रिय और विश्वस्त साथी रहे हैं. हिमालयन शीपडॉग बहुत मज़बूत कदकाठी का होता है. इसका आकार सामान्य से कुत्तों से कहीं अधिक बड़ा होता है. चौड़े कंधे, बड़े आकार का सिर और मजबूत चौड़े पंजे इन झबरीले कुत्तों की खासियत है.

हिमालयन शीपडॉग रात के समय अधिक क्रियाशील रहता है और इसी कारण से यह पर्वतीय ऊंचाइयों पर अपने रेवड़ के साथ समय बिताने वाले चरवाहों के सबसे प्रिय पहरेदार बना हुआ है. दिन के समय अमूमन अलसाया रहने वाला यह कुत्ता आपको पहली निगाह में बहुत ही भोला और पालतू लगेगा लेकिन रात आने पर यह इतना खूंखार हो जाता है कि उसकी बगल से होकर गुज़र सकना तक असंभव होता है. हिमालयन शीपडॉग की आक्रामकता और उसकी चुस्ती-फुर्ती के कारण इसे कई जगहों पर शिकारी कुत्ते की तरह भी पाला जाता है.

पिथौरागढ़ जिले की दारमा-व्यांस घाटियों में अनेक पीढ़ियों से चरवाहे का काम कर रहे कुंदन सिंह भण्डारी बतलाते हैं कि दो या तीन कुत्ते मिलकर न केवल हज़ार-आठ सौ भेड़-बकरियों की चौकस पहरेदारी कर सकते हैं, विषम और विपरीत परिस्थिति आ जाने पर ये इतने खूंखार हो जाते हैं कि पहाड़ी बाघ का शिकार तक कर सकते हैं. अपने स्वामी और उसके रेवड़ के प्रति वफादारी इस नस्ल की एक और विशिष्टता है. उनके इस गुण की दिलचस्प कहानियां सुननी हों तो आपको उच्च हिमालयी क्षेत्रों की ट्रेकिंग पर जाना होगा जहां गर्मियां बिताने वाले घुमंतू चरवाहे आपको अपने शिविर गाड़े हुए मिल जाएंगे. कुंदन सिंह भण्डारी कहते हैं कि उनके परिवार में ये कुत्ते कई पीढ़ियों से रह रहे हैं और घर के सदस्यों जैसे होते हैं.

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close