Breaking News

भारत में करोड़ो का चुना लगा चूका था चीनी नागरिक, नाम बदलकर रह रहा था भारत में दलाई लामा की जानकारी जुटा रहा था चीनी नागरिक, गिरफ्तार...

लुओ सांग ने असली नाम छिपाया और एक फर्जी नाम रखा- चार्ली पेंग। सूत्रों के मुताबिक, सांग ने मजनू का टीला में रहने वाले कई लोगों को दो से तीन लाख रुपए नगद दिए थे। पुलिस अब इन लोगों का पता लगा रही है। पेंग सितंबर 2018 में एक जासूसी केस में गिरफ्तार हुआ था। बाद में जमानत मिल गई।

जांच में खुलासा हुआ है कि लुओ सांग 2014 में नेपाल के रास्ते भारत में घुसा। मिजोरम में लड़की से शादी की। फिर फर्जी पासपोर्ट बनवाया। बदले नाम से आधार और पैन कार्ड भी बनवा लिया। आयकर विभाग ने जांच एजेंसियों को बताया कि तिब्बती भिक्षुओं को दी जाने वाली घूस या पैसा सांग ने अपने लोगों के जरिए भेजी थी। सांग और उसके सहयोगी चीनी ऐप वी चैट बातचीत करते थे।

आयकर विभाग ने दिल्ली के एक चार्टर्ड एकाउंटेंट की भी पहचान कर ली है। ये मनी लॉन्ड्रिंग में सांग की मदद कर रहा था। सीए को फिलहाल, गिरफ्तार नहीं किया गया है। इससे पूछताछ जारी है। वह 40 से ज्यादा बैंक अकाउंट ऑपरेट कर रहा था। इन बैंक खातों के जरिए 300 करोड़ रुपए का लेनदेन किया गया है।
इसमें कुछ चीनी कंपनियां हैं। लेनदेन हॉन्गकॉन्ग के रास्ते हुआ। आयकर विभाग को शक है रि कुछ बैंक कर्मचारी इसमें शामिल हो सकते हैं।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close