Breaking News

बोले बहन पहले नहा कर आते है फिर बंधवाएंगे राखी ये कहकर चले गए भाई, घर लौटी लाशें, मंजर देख बेहोश हुई बहनें, रो रोकर बुरा हाल....

कोतवाली थाना पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर शवगृह में रखवा दिया है। बताया जाता है कि कई दिनों से पहाड़ों पर बारिश के चलते इन दिनों यमुना नदी का बहाव पहले की अपेक्षा तेज है, जिसके कारण ये हादसा हुआ। बोट क्लब इंचार्ज हरीश कुमार ने बताया कि करण जब जमुना में नहा रहा था। 

उस समय वह गहरे पानी में जाने लगा। तभी अजय उसे बचाने के लिए गया तो दोनों डूब गए। वहीं उनका एक साथी राकेश इन्हें बचाने का प्रयास कर रहा था, वह भी डूबने लगा। तभी रस्सी डालकर राकेश को जैसे-तैसे निकाला गया। पुलिस अखाड़े के संचालक और परिजनों से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।


अजय और करण परिवार के साथ गली नंबर- 8 धर्मपुरा गांधीनगर में रहते थे। उनके परिवार में पिता राधेश्याम, मां उमा देवी और दो भाई राहुल और अरुण हैं। अजय सेल्समैन का काम करता था। जबकि करण नेल आर्टिस्ट था। चारों भाइयों को पहलवानी का शौक था। सोमवार सुबह दोनों पहलवानी के लिए अखाड़े में गए थे। उसके बाद दोनों यमुना में नहाने चले गए उनके साथ राकेश भी था।

 करण अचानक गहरे पानी में चला गया। अजय उसे बचाने लगा। दोनों भाई पानी में डूब गए। राकेश ने उन्हें बचाने का प्रयास किया लेकिन स्थानीय लोगों ने जैसे तैसे कर राकेश को रस्सी के सहारे बाहर निकाला। बोट क्लब इंचार्ज हरीश कुमार की टीम ने 7 गोताखोर एक मोटर बोट के सहारे रेस्क्यू कर दोनों शवों को बाहर निकाला।
close