Breaking News

धोनी के लिए जरूर होना चाहिए फेयरवेल मैच, संन्यास के फैसले पर धोनी के फैन स्तब्ध, कहा- भव्य विदाई की थी उम्मीद

झारखंड और खासकर रांची के लिए पूरे देश-दुनिया में पहचान बने धोनी के प्रशंसकों को उम्मीद थी कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से धोनी की गावस्कर, कपिल देव और अन्य नामी खिलाड़ियों के तरह भव्य विदाई होगी, लेकिन जिस सादगी से धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को विदा करने की घोषणा की, उससे लोगों में थोड़ी निराशा जरूर है, लेकिन वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल के दौरान लिए गए इस फैसले को कई लोग उचित भी ठहरा रहे हैं। रांची में माही के फैन संदीप, मुकेश, अनिल सहित कई लोगों ने धोनी के संन्यास पर कहा कि हम लोगों को उम्मीद थी कि धोनी मैदान पर आखिरी मैच खेलकर अपने संन्यास की घोषणा करेंगे। लेकिन जो भी है, धोनी ने जो फैसला लिया है वो सही ही होगा।

एमएस धोनी ने अपनी कप्तानी के दौरान ना केवल देश की क्रिकेट टीम को आईसीसी की चार प्रमुख ट्रॉफी एकदिवसीय विश्व कप, टी-20, चैंपियनंस ट्रॉफी और टेस्ट क्रिकेट में नायाब सफलता दिलाई, बल्कि उन्होंने ऐसी प्रतिभा को मौका देने का भी प्रयास किया, जो आज देश का नाम ऊंचा नाम कर रहे हैं।

 इन तमाम कामयाबी ने महेन्द्र सिंह धोनी को भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे बेहतरीन कप्तान बनाया। महेन्द्र सिंह धोनी ने साल 2007 में भारतीय टीम की कप्तानी संभालने के बाद 2017 तक कप्तानी की। इन सालों में उन्होंने भारतीय टीम को काफी ऊंचाईयों पर ले जाने में सफल रहे।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close