Breaking News

श्री गणेश स्थापना विधि : जानें श्री गणेश जी का स्वागत कैसे करें, जानिए विधि विधान.....

प्रथम पूज्य श्री गणेश अति विशिष्ट, सौम्य और आकर्षक देवता हैं। उनके आगमन के साथ ही पृथ्वी पर चारों तरफ रौनक, रोमांच और रोशनी बिखर जाती है। वहीं पंडित सुनील शर्मा के अनुसार श्री गणेश से हर वर्ग, हर उम्र के व्यक्ति का लगाव है। ऐसे उनका स्वागत भी कुछ खास तरीकों से करना चाहिए...
ये करें श्री गणेश जी के आगमन से पहले...

श्री गणेश जी के आगमन से पहले अपने घर को सजाएं, संवारें व निखारें। सुख, सुविधा, खुशियां जितनी आप गणपति के समक्ष रखेंगे उतनी ही और उससे कहीं ज्यादा आपको प्रतिसाद में मिलेगी। श्री गणेश के आगमन से पहले उनके स्थापना का स्थान स्वच्छ करें। सबसे पहले स्थान को पानी से धोएं।

कुमकुम से एकदम सही व्यवस्थित स्वास्तिक बनाएं। चार हल्दी की बिंदी लगाएं। एक मुट्ठी अक्षत रखें। इस पर छोटा बाजोट, चौकी या पटा रखें। लाल, केसरिया या पीले वस्त्र को उस पर बिछाएं। स्थान को रोशनी से सुसज्जित करें। चारों तरफ रंगोली, फूल, आम के पत्ते और अन्य सजावटी सामग्री से स्थान को सुंदर और आकर्षक बनाएं।



आसपास इतना स्थान अवश्य रखें कि आरती की पुस्तक, दीप, धूप, अगरबत्ती, प्रसाद रख सकें। सपरिवार आरती में शामिल होना जरूरी है, अत: घर के किसी ऐसे कमरे में गणेश स्थापना करें, जहां सब पर्याप्त दूरी के साथ खड़े हो सके। एक तांबे का सुस्वच्छ कलश शुद्ध पानी भर कर, आम के पत्ते और नारियल के साथ सजाएं। यह समस्त तैयारी गणेश उत्सव के आरंभ होने के पहले कर लें।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close