Breaking News

हाईकोर्ट ने तब्लीगी जमात मामले में रद्द की FIR, कहा- 'बलि का बकरा बनाया गया

बॉम्बे हाई कोर्ट  की औरंगाबाद बेंच ने दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात मामले में देश और विदेश के ज'मातियों के खिलाफ दर्ज FIR को रद्द कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में तब'लीगी जमा'त को 'ब'लि का ब'करा' बनाया गया। कोर्ट ने साथ ही मीडिया को फट'कार लगाते हुए कहा कि इन लोगों को ही संक्र'मण का जिम्मेदार बताने का प्रॉ'पेगेंडा चलाया गया। 

वहीं कोर्ट के इस फैसले के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने बी'जेपी पर नि'शाना साधा है। उन्होंने कहा कि इस प्रॉपेगेंडा से मु'स्लिमों को न'फरत और हिं'सा का शि'कार होना पड़ा।

कोर्ट ने शनिवार को मामले पर सुनवाई करते हुए कहा, 'दिल्ली के मर'कज में आए विदेशी लोगों के खि'लाफ प्रिं'ट और इ'लेक्ट्रॉनिक मी'डिया में बड़ा प्रॉपेगेंडा चलाया गया। ऐसा मा'हौल बनाने की कोशिश की गई, जिसमें भारत में फैले Covid-19 सं'क्रम'ण का जिम्मे'दार इन विदेशी लोगों को ही बनाने की कोशिश की गई। त'बलीगी ज'मात को ब'लि का ब'करा बनाया गया।'

Tablighi Jamaat case: Aurangabad bench of Bombay High Court quashes the FIRs filed against several persons, including foreigners, in the matter.

- ANI (@ANI)


हाई कोर्ट बेंच ने कहा, 'भारत में सं'क्रमण के ताजे आंकड़े दर्शाते हैं कि याचिकाकर्ताओं के खिलाफ ऐसे ऐक्शन नहीं लिए जाने चाहिए थे। विदेशियों के खिलाफ जो ऐक्शन लिया गया, उस पर पश्चाचाताप करने और क्षतिपूर्ति के लिए पॉजिटिव कदम उठाए जाने की जरूरत है।'

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close