Breaking News

इस राजा को था दुनिया का सबसे अनोखा शौक, 1 दिन में खाता था 35 किलो खाना और रोज लेता था इस चीज का स्वाद, जानकर उड़ जाएंगे होश

दुनियाभर में खाने के शौकीनों की कोई कमी नहीं है, लेकिन हर रोज 35 किलो के आसपास खाना खाना कोई आम बात नहीं है। वैसे आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि जो पहलवान होते हैं, वो ज्यादा खाना खाते हैं, लेकिन एक दिन में 35 किलो तो शायद ही कोई खा पाता होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे बादशाह के बारे में बताने जा रहे हैं, जो इतना खाना तो आराम से खा जाता था और उसे पचा भी लेता था। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह बादशाह हर रोज जहर का भी सेवन करता था।

इस बादशाह का नाम है महमूद बेगड़ा, जो गुजरात के छठे सुल्तान थे। वह महज 13 साल की उम्र में गद्दी पर बैठे थे और 52 साल (1459-1511 ईस्वी) तक सफलतापूर्वक गुजरात पर राज किया था। उन्हें अपने वंश का सबसे प्रतापी शासक माना जाता था।

महमूद बेगड़ा का नाम महमूद शाह प्रथम था। उन्हें 'बेगड़ा' की उपाधि तब दी गई थी, जब उन्होंने 'गिरनार' जूनागढ़ और चम्पानेर के किलों को जीत लिया था। कहते हैं कि गिरनार किले पर बेगड़ा का अधिकार हो जाने के बाद यहां के राजा ने इस्लाम धर्म स्वीकार कर लिया था, जिसके बाद उसकी सेना को सुल्तान की सेना में शामिल कर लिया गया था।

महमूद बेगड़ा के आकर्षक व्यक्तित्व के चर्चे तो आज भी खूब होते हैं। कहते हैं कि उनकी दाढ़ी इतनी बड़ी थी कि वो कमर तक पहुंच जाती थी। इसके अलावा उनकी मूंछें भी काफी लंबी थीं। वह उन्हें अपने सिर के ऊपर बांध लेते थे।

महमूद बेगड़ा के बारे में सबसे ज्यादा जो बात प्रचलित है, वो ये है कि वह एक दिन में कम से कम 35 किलो खाना खाते थे। कहते हैं कि वह नाश्ते में एक कटोरा शहद, एक कटोरा मक्खन और 100-150 केले खा जाते थे। सिर्फ यही नहीं, रात के समय भी उनके तकिए के दोनों तरफ खाना रख दिया जाता था, ताकि अगर उन्हें कभी भी भूख लगे तो तुरंत खा सकें।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close