Breaking News

विश्व की सबसे महंगी फिल्म जिसे बनाने में करीब 27 अरब रुपए की लागत आई थी, आखिर क्या था इसमें ऐसा जानकर रह जाओगे दंग

आप लोगों ने बहुत सी फिल्मों के बारे में सुना होगा और जाना होगा लेकिन आज हम आपको एक ऐसी फिल्म के बारे में बताने वाले हैं जो पूरे विश्व की सबसे महंगी फिल्म है आइए जाने

रोमांचकारी फिल्मों की एक श्रृंखला है जो गोर वर्बिन्सकी द्वारा निर्देशित, टेड इलियट व टेरी रोज़ियो द्वारा लिखित और जेरी ब्रुखिमर द्वारा निर्मित है। वे उसी नाम के एक वॉल्ट डिज़्नी थीम पार्क सवारी पर आधारित हैं और कप्तान जैक स्पैरो (जॉनी डेप द्वारा अभिनित), विल टर्नर (ऑरलैंडो ब्लूम द्वारा अभिनीत) और एलिज़ाबेथ स्वान (केइरा नाइटली द्वारा अभिनित) का अनुसरण करते हैं।

 फिल्में २००३ में समुंदर के लुटेरे: द कर्स ऑफ़ द ब्लैक पर्ल कि अपनी पहले रीलीज़ के साथ बड़े परदे पर शुरू हुईं. पहली फिल्म की अनपेक्षित सफलता के बाद, वॉल्ट डिज़्नी पिक्चर्स ने बतलाया कि एक रचना त्रय पर काम चल रहा था। समुंदर के लुटेरे: मुर्दे का खज़ाना तीन साल बाद २००६ में जारी की गई। इसकी उत्तर कथा बहुत सफल साबित हुई, इसके प्रीमियर के दिन इसने दुनिया भर में रिकॉर्ड तोड़े. अंत में इसे दुनिया भर में बॉक्स ऑफिस पर कुल $१,०६६,१७९,७२५ हासिल हुए, यह चौथी और सबसे तेज़ फिल्म बनी जो इस राशि तक पहुंची. श्रृंखला की तीसरी फिल्म, समुंदर के लुटेरे: अन्तिम घडी २००७ में जारी की गई। अब तक, फिल्म दुनिया भर में २.६८ अरब डॉलर से अधिक की कमाई कर चुकी है। सितम्बर २००८ में, डेप ने चौथी फिल्म के लिए अनुबंध किया, समुंदर के लुटेरे: एक अंजान सफर २० मई २०११ को रिलीज़ की गई।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close