Breaking News

30 साल पहले जम्मू से पंडितो के पलायन के बाद आतंकवाद के कारण खंडहर में हुआ था तब्दील,फिर से भव्य स्वरूप में आएगा 300 साल पुराना मंदिर

जानकरी के मुताबिक श्रीनगर के झेलम नदी के किनारे स्थित रघुनाथ मन्दिर का भी जीर्णोद्धार शुरू किया जायेगा। सदियों पहले बना यह मन्दिर अतंकवाद के चलते लंबे समय से उपेक्षित पड़ा है। 30 साल पहले जब जम्मू कश्मीर से पंडितों का पलायन शुरू हुआ तो धीरे-धीरे यह मंदिर भी वीरान हो गया।


स्थानीय सरकार की उपेक्षा और आतंकवाद के कारण यह समय के साथ खंडहर में तब्दील होता चला गया,लेकिन अब पर्यटन विभाग ने इसकी ऐतिहासिक छवि को पुन:बहाल करने का फैसला लिया है और जल्द ही इसके मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया जायेगा।

कहा जाता है कि यह मंदिर करीब 300 साल पहले बनवाया गया था। डोगरा महाराजा रणबीर सिंह ने साल 1860 में मंदिर में जीर्णोद्धार का कार्य कराते हुए इसे एक भव्य मंदिर के रूप में स्थापित किया था, लेकिन 1990 के दशक में जब घाटी में आतंवाद की जड़ें गहरी होने लगी और यहां रह रहे कश्मीरी पंडितों को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा था,

 तब से यह मंदिर खंडहर में तब्दील होता चला गया। अब सरकार मंदिर को फिर से भव्य स्वरूप देना चाहती है। पर्यटन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक मंदिर के रेनोवेशन कार्य में करीब 43 लाख से अधिक रुपये लगेंगे और अगले कुछ महीनों के भीतर ही ये काम पूरा हो जाएगा।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close