Breaking News

इन 3 मंत्रों के जाप से दूर होगी शनि की साढे़साती, दुख-दर्द होंगे समाप्त

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि की साढ़ेसाती इंसान के लिए बहुत हानिकारक होता हैं। इससे इंसान को जीवन में मनचाहे फल की प्राप्ति नहीं होती हैं और जीवन में अशांति बनी रहती हैं। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे कुछ ऐसे मंत्र के बारे में जिसके जाप से शनि की साढ़ेसाती समाप्त हो जाती हैं और जीवन में खुशियां आती हैं।

1 .ॐ शन्नो देवी रभिष्टय आपो भवन्तु पीपतये शनयो रविस्र वन्तुनः।

शनि के इस मंत्र को शनि वैदिक मंत्र कहा जाता हैं। इसके जाप से शनि की साढ़ेसाती खत्म हो जाती हैं तथा जीवन में सुख, शांति और समृद्धि आती हैं। साथ ही साथ इंसान को दुख-दर्द से भी मुक्ति मिल जाती हैं। इसलिए आप इस मंत्र का जाप करें।

2 .श्री नीलान्जन समाभासं ,रवि पुत्रं यमाग्रजम।

छाया मार्तण्ड सम्भूतं, तं नमामि शनैश्चरम ।।

शनि के इस मंत्र के जाप से कुंडली के सारे ग्रह दोष दूर हो जाते हैं। साथ ही साथ इंसान को जीवन में समृद्धि मिलती हैं। इंसान खुद को भाग्यशाली महसूस करता हैं। इसके जाप से जीवन की हर परेशानी समाप्त हो जाती हैं।

3 .ॐ शं शनैश्चरायै नम:

ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:

यह शनि का सबसे ताकतवर मंत्र माना जाता हैं। अगर आप इस मंत्र का जाप शनिवार को करते हैं तो इससे साढ़ेसाती ख़त्म हो जाता हैं और जीवन पर शनिदेव की कृपा बनी रहती हैं। इसलिए आप इस मंत्र का जाप शनिवार के दिन जरूर करें।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close