Breaking News

जेल में बंद पत्रकार की बेटी को बंधक बना सरेआम लगाई आग, लोग देखते रहे विडियो बनाते रहे वो लगाती रही बचाने की दुहाई, 3 घंटे बाद पहुंची पुलिस

 घटना बल्दीराय थाना क्षेत्र के टंडरसा मजरे के ऐंजर गांव की है। गांव निवासी पत्रकार प्रदीप सिंह की लड़की श्रद्धा सिंह अपने दरवाजे पर स्थित नल पर पानी भर रही थी। इसी बीच आरोपी सुभाष, महंथ, जयकरन निवासी परसौली ने पहुंचकर उसका हाथ मुंह और पैर बांधकर उस पर केरोसिन छिड़क दिया। फिर किशोरी को आग के हवाले करके फरार हो गए। आग लगने के बाद किशोरी के चीखने पर लोगों ने उसकी मदद की। परिवारवाले उसे लेकर सीएचसी धनपतगंज लेकर पहुंचे। किशोरी 90 फीसदी जल चुकी थी। यहां डॉक्टर्स ने गंभीर हालत में उसे ट्रॉमा सेंटर लखनऊ के लिए रिफर किया। नृशंस हत्या के प्रयास को नजरंदाज करते हुए पुलिस तीन घंटे बीतने के बाद घटनास्थल पर पहुंची।


लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में थाना क्षेत्र में बलवा के दौरान घायल 80 वर्षीय वृद्ध की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। पुलिस ने क्षेत्र के पत्रकार प्रदीप सहित 13 लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर 8 लोगों को घायल अवस्था में ही अस्पताल से उठाकर जेल में डाल दिया था। इस मामले में दूसरे पक्ष के नामजद 12 व एक अज्ञात को खुलेआम पुलिस का संरक्षण देना, इस घटना का कारण बना था।

कहा जाता है कि बल्दीराय थाना अध्यक्ष अखिलेश सिंह की भूमिका शुरू से ही संदिग्ध थी। वह इसलिए कि थाना बल्दीराय क्षेत्र के टंडरसा ऐंजर निवासी प्रदीप सिंह की खतौनी की जमीन में वृद्ध का शव दफनाने का उन्होंने विरोध किया तो थानाध्यक्ष बल्दीराय अखिलेश सिंह ने खुद थाने की फोर्स लेकर उनकी उसी जमीन में शव दफन करा दिया था। यहीं से झगड़े की शुरुआत हुई थी और बाद में दोनों पक्षों में जमकर लाठी डंडे चले थे। इसमें राहगीरों सहित दर्जनों लोग घायल हुए और 5 बाइकों को आग के हवाले कर दिया गया था।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close