Breaking News

जिस जगह को नेहरू से लेकर मनमोहन तक हारते रहे उसकी जगह पर मोदी काल में भारतीय सेना ने किया कब्जा, भारतीय सेना दमदार सेना चीन में 4 km अंदर

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी  ने सोमवार  को पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा  के पास पैंगोंग त्सो में गतिरोध के लिए भारतीय सेना को दोषी ठहराया है और 'आग्रह' कर रहा है कि भारत अपने सैनिकों को क्षेत्र से वापस जाने के आदेश दे। सोमवार देर शाम जारी एक बयान में, पीएलए के पश्चिमी थिएटर कमांड ने आरोप लगाया कि भारतीय सैनिकों ने एलएसी का उल्लंघन किया और पैंगोंग त्सो के दक्षिण बैंक और रेकिन पास को क्रॉस कर आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि पीएलए जवाबी कार्रवाई कर रही है।

सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ  ने डब्ल्यूटीसी के प्रवक्ता सीनियर कर्नल झांग शुइली के हवाले से कहा, "31 अगस्त को भारतीय सेना ने दोनों पक्षों के बीच पिछली बहु-स्तरीय वार्ता में हुई सहमति को तोड़ा और गैरकानूनी रूप से पैंगोंग के दक्षिणी तट के पास फिर से लाइन पार की, इन कारणों से सीमा पर तनाव पैदा हो रहा है।"

झांग ने कहा है कि चीन ने भारतीय सेना के इस कदम का कड़ा विरोध किया है और यह चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता का घोर उल्लंघन है। इससे चीन-भारत सीमा क्षेत्रों में अशांति पैदा हो रही है और धोखा किया जा रहा है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close