Breaking News

सावधान कोरोना के बाद चीन ने बनाया खतरनाक वायरस, चीन की नयी चाल सामने आया कोरोना से भी खतरनाक वायरस, कुछ दिनों में 4,646 लोग पॉजिटिव -

ग्लोबल टाइम्स की खबर के अनुसार ब्रूसेलोसिस पर निगरानी रखने के लिए लान्झोउ वेटरीनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने देश के 11 पब्लिक मेडिकल इंस्टीट्यूशंस और अस्पतालों को काम पर लगा दिया है. इन अस्पतालों में ब्रूसेलोसिस के मरीजों की मुफ्त जांच और इलाज होगा. साथ ही लोगों को इससे बचने के लिए जागरूक किया जाएगा. इसके लिए मौके पर ही काउंसलिंग की जा रही है.

लोगों को इस बीमारी के बारे में बताने के लिए ऑ़नलाइन काउंसलिंग भी की जा रही है. जो लोग बीमार हुए हैं उनकी महीने भर में कई बार जांच की जा रही है. उनके हेल्थ रिकॉर्ड्स को लगातार मॉनीटर किया जा रहा है. ब्रूसेलोसिस के लिए अब तक 23,479 लोगों की काउंसलिंग की जा चुकी है. इसके अलावा 3,159 लोगों के नए हेल्थ रिकॉर्ड्स बनाए गए हैं. इसके अलावा गांसू प्रांत में जागरुकता के लिए 15 हजार प्रचार सामग्री बांटी गई है.

ब्रूसेलोसिस एक ऐसी बीमारी है जो बैक्टीरिया से होता है. 24 जुलाई 2019 से 20 अगस्त 2019 तक झोन्गमू लॉन्झोउ बायोलॉजिकल फार्मास्यूटिकल फैक्ट्री ने इस ब्रूसेला वैक्सीन बनाने के लिए एक्सपायर्ड डिसइंफेक्टेंट का उपयोग किया था. इस वैक्सीन का उपयोग जानवरों के इलाज के लिए होता है. आमतौर पर भेड़-बकरियों के लिए. लेकिन जिस फर्मेंटेशन टैंक में बेकार डिसइंफेक्टेंट रखा था उससे वेस्ट गैस निकल रही थी.

जब टैंक खाली किया गया तो जो तरल पदार्थ टैंक से बाहर निकला उसमें ब्रूसेलोसिस बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया थे. इसके अलावा उस तरल पदार्थ से काफी ज्यादा मात्रा में वेस्ट गैस निकल रही थी. इस गैस और तरल पदार्थ की वजह से हवा में बैक्टीरिया फैल गए और ब्रूसेलोसिस बीमारी से ग्रसित हो गए. अब भी हो रहे हैं.

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close