Breaking News

अमेरिका की चीन को खुलेआम धमकी, अमेरिका बोला- इन पापों का हम लेंगे बदला, चीन ने जानबूझकर 4 देशों को रखा प्यासा

जापान की क्योडो न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार अभी हाल ही में अमेरिका के उप विदेश मंत्री स्टीफेन बीगन की 5 दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों के साथ हाल ही में एक विशेष बैठक है, जिसमें एक बार फिर से चीन निशाने पर है। परंतु आखिर समस्या क्या है? दरअसल, इन पाँच दक्षिण पूर्वी एशियाई देश, जिनमें वियतनाम, थायलैंड, लाओस, और कंबोडिया जैसे देश शामिल है, जो चीन के साथ मेकोंग नदी के मुद्दे पर कई वर्षों से जूझ रहे हैं।



दरअसल, 4,350 किलोमीटर लंबी मेकोंग नदी दक्षिण पूर्व एशिया की ओर बहने वाली एक अहम नदी है, जिसके संसाधनों का उपयोग वियतनाम, थायलैंड, लाओस और कंबोडिया कई वर्षों से करता आया है। लेकिन सत्ता के नशे में चूर कम्युनिस्ट चीन को इस बात से भी दिक्कत है कि कोई देश उसके चीन के जरिये बहती नदी के संसाधनों का भी उपयोग करे।

कहते हैं कि तीसरा विश्व युद्ध संभवत पानी के विषय में छिड़ सकता है, और शायद ऐसा शुरू भी हो चुका है। अप्रैल माह में Eyes on Earth नाम की एक रिसर्च कंपनी ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया कि इन सभी देशों में बहने वाली मेकोंग नदी में जल स्तर 50 सालों के निम्न स्तर पर आ चुका है, जिसके कारण इन देशों में किसानों को बड़ी तबाही का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक कि कुछ जगहों पर तो यह नदी सूखने की कगार पर पहुँच चुकी है। और इसका एक ही कारण है: चीन द्वारा इस नदी पर बनाए जा रहे एक के बाद एक बांध! इतना ही नहीं, Eyes on Earth संस्था के अध्यक्ष Alan Basist's ने दावा किया है कि- "अगर चीन ऐसा कहता है कि मेकोंग बेसिन के देशों में सूखे का कारण वह नहीं है, तो आंकड़े इस बात का समर्थन नहीं करते हैं"। इस विषय पर TFIPost ने प्रकाश भी डाला था।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close