Breaking News

मौसम बदलने पर होने वाली सर्दी-जुकाम से हैं परेशान, जाने वैज्ञानिकों की बात

शोधकर्ता ने पाया कि जब साधारण सर्दी-जुकाम का वायरस व गंभीर फ्लू जैसे इंफ्लूएंजा का वायरस एक ही समय में सक्रिय होता है, उस मौसम में भी सर्दी-जुकाम से पीड़ित लोग इंफ्लूएंजा से बचे रहते हैं. यानी सर्दी-जुकाम के कारण उनके शरीर में इंफ्लूएंजा से लड़ने की शक्ति पनप जाती है. इसका कारण है कि साधारण सर्दी का वायरस हमारे शरीर की कोशिकाओं को ज्यादा ताकतवर इंफ्लूएंजा जैसे वायरस से सुरक्षा देता है, यह सुरक्षा कवच छह दिन तक बना रहता है.

फ्लू से बचाती हाथ की स्वच्छता-

शोधकर्ता ने पाया कि न सिर्फ कोरोनावायरस बल्कि हर कम या अधिक ताकतवर वायरस से बचने का सबसे सरल व प्रभावी रास्ता स्वच्छता का पालन है. श्वसन तंत्र को प्रभावित करने वाले इन वायरसों से बचने के लिए हाथ खोना, खतरनाक कीटाणु वाली जगहों से दूर रहना महत्वपूर्ण है.

कोल्ड वायरस व फ्लू में अंतर-
साधारण सर्दी-इसका मुख्य लक्षण नाक बहना व गला बेकार होना है, जिसके बाद छींकें व खांसी प्रारम्भ हो जाती है. यह अधिकतम 7 से 10 दिन में अच्छा हो जाता है.
फ्लू-इसमें बुखार, खांसी, जुकाम, छींके आना जैसे लक्षणों के अतिरिक्त सिर और मांसपेशियों में दर्द और थकान जैसे लक्षण भी शामिल होते हैं.

महामारी जैसा खतरनाक है फ्लू-
- 5 से 10 करोड़ लोग पिछले सौ वर्ष में दुनिया में इंफ्लूएंजा से मर चुके हैं
- 1 से दो करोड़ इस फ्लू से पीड़ितों की जान हिंदुस्तान में अब तक जा चुकी है

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close