Breaking News

इस राज्य में है अजीब प्रथा, दुल्हन भरती है दूल्हे की मांग, इसके पीछे की वजह जानकर रह जाओगे दंग



यह परपंरा छ्त्तीसगढ़ के सुदूर वनाचल जशपुर जिले में बसी उंराव जनजाति में विवाह के दौरान की जाती है. इस परपंरा में दुल्हा-दुल्हन दोनों एक-दूसरे की मांग में सिंदूर भरते हैं. समाज के लोगों की मान्यता है कि इससे दंपत्ति को वैवाहिक रिश्तों में बराबरी का एहसास होता है.

विवाह के दौरान घर के आसपास स्थित बगीचे में आमंत्रण का इंतजार करता है. और जब दुल्हन के रिश्तेदार दुल्हे को कंधे पर बैठाकर मंडप में लाते हैं. तो यह रस्म पूरी हो जाती है. इसमें दुल्हन के भाई की अहम भूमिका होती है. वह बहन की अंगुली पकड़ता है और दुल्हन भाई के सहारे दुल्हे को बिना देखे यानि कि पीछे की ओर हाथ करके सिंदूर भरती है.


पंच के रूप मे गांव के 5 वरिष्ट सदस्य चादर से एक घेरा बनाते हैं. उसके अंदर कुछ खास रिश्तेदार बतौर गवाह होते हैं. और बुजुर्ग बाहर से बार-बार आवाज देते हैं कि एक बार और अच्छे से एक-दूसरे को देख लो, जान लो, फिर सिंदूर भरना. प्रधान का कहना की इस रस्म में भाई के रिश्तों की मजबूती भी झलकती है.

सिंदूर गोतिया की रस्मउच्च शिक्षा पाकर विवाह बंधन में बंधे मोना प्रधान और विनय निकुंज ने बताया कि ये परपंरा उनके लिेये महत्वपूर्ण है और बराबरी का रिश्ता होने का एहसास दिलाती है. विवाह के पूर्व सिंदूर गोतिया कि रस्म होती है जिसमें दुल्हा-दूल्हन साथ में सिंदूर खरीदने जाते हैं. उसे भाभियां आंचल में रखकर छुपा लेती हैं.और शादी वाले दिन दोनों को देती हैं.

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close