Breaking News

ममता बनर्जी का चुनावी लॉलीपॉप, हिन्दुओ को रिझाने हथकंडों की शुरुआत, जिन पुजारियों को कभी मरवाया उन्ही को देने लगी एक एक हजार रूपये....

। राज्य के हिंदीभाषी और आदिवासी मतदाताओं को ध्यान में रखते हुए बनर्जी ने यह भी कहा कि उनकी सरकार ने एक हिंदी अकादमी और एक दलित साहित्य अकादमी स्थापित करने का निर्णय किया है।
उन्होंने यह घोषणा हिंदी दिवस के दिन की जो हिंदी को देश की आधिकारिक भाषा के तौर पर अपनाने की याद में प्रतिवर्ष इस दिन मनाया जाता है। विपक्षी दलों ने इन घोषणाओं को ‘चुनावी हथकंडा’ करार दिया।

बनर्जी ने कहा कि हमने पहले सनातन ब्राह्मण संप्रदाय को कोलाघाट में एक अकादमी स्थापित करने के लिए भूमि प्रदान की थी। इस संप्रदाय के कई पुजारी आर्थिक रूप से कमजोर हैं। हमने उन्हें प्रतिमाह 1,000 रुपए का भत्ता प्रदान करने और राज्य सरकार की आवासीय योजना के तहत मुफ्त आवास प्रदान करके उनकी मदद करने का फैसला किया है।



उन्होंने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं आप सभी से अनुरोध करती हूं कि इस घोषणा का अन्य कोई मतलब नहीं निकालें। यह ब्राह्मण पुजारियों की मदद करने के लिए किया जा रहा है। उन्हें अगले महीने से भत्ता मिलना शुरू हो जाएगा।

8000 गरीब पुजारियों को ₹1000 का मासिक भत्ता और मुफ्त आवास: चुनाव से पहले ममता बनर्जी की ‘हिंदू राजनीति’पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों को लेकर अभी से सियासी खेल शुरू हो गए हैं। हाल में भाजपा अध्यक्ष जय प्रकाश नड्डा ने ममता बनर्जी पर हिंदू विरोधी होने का आरोप लगाया था। हालाँकि ममता बनर्जी ने आरोपों से मुक्ति पाने के लिए कल ब्राह्मणों के लिए बड़ा ऐलान कर दिया। ममता सरकार ने साल 2021 के चुनावों से पहले राज्य के 8000 से अधिक गरीब सनातन ब्राह्मण पुजारियों को 1000 रुपए का मासिक भत्ता और मुफ्त आवास देने की घोषणा की।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close