Breaking News

कही कोरोना ना बन जाये दुनिया का काल, ट्रायल के 'राज' छिपा रहीं कंपनियां, अलर्ट किये साइंटिस्‍ट्स

वैक्‍सीन निर्माता कंपनियों के इस रवैये से एक्‍सपर्ट्स थोड़े से खफा है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स से बातचीत में येल यूनिवर्सिटी में कार्डियोलॉजिस्‍ट डॉ हरलैन क्रमहोज ने कहा, "भरोसे की सप्‍लाई जरा कम है। और वे (फार्मा कंपनियां) जितना बताएंगे, हम उतना ही बेहतर हो पाएंगे।"


फाइजर के सीईओ अल्‍बर्ट बूर्ला का कहना है कि अमेरिका में इस साल के आखिर तक वैक्‍सीन लॉन्‍च कर दी जाएगी। उन्‍होंने कहा कि उनकी कंपनी उस हालात के लिए तैयार है। उन्‍होंने कहा कि फाइजर और बायोएनटेक की साझा वैक्‍सीन 'सेफ' है और अमरीकियों को 2021 से पहले हासिल हो सकती है।

अस्‍त्राजेनेका ने ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी संग मिलकर वैक्‍सीन बनाई है। क्लियरेंस के बाद कंपनी ने ब्रिटेन में फिर से ट्रायल शुरू कर दिए थे। अब जापान में भी इंसानों पर ट्रायल शुरू हो गया है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से अनुमति मिलने के बाद, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया भी देश में इस टीके का ट्रायल दोबारा शुरू करेगी।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close