Breaking News

चीन की शामत आनी तय कर चूका है भारत,लद्दाख में आने वाली है सर्दी, बर्फ का फायदा उठाकर भारत लपक सकता है अक्साई चिन

 अक्साई चिन लद्दाख का वो हिस्सा है, जिसे हम 1962 की जंग में चीन को हार बैठे थे। लेकिन भारत ने अक्साई चिन पर अपना दावा नहीं छोड़ा है। राज्यसभा को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, "चीन आज भी लद्दाख के 38000 स्क्वेयर किलोमीटर वर्ग क्षेत्र की भूमि पर अवैध रूप से कब्जा जमाया हुआ है। इसके अलावा 1963 के सिनो पाकिस्तान बाउंडरी एग्रीमेंट के अंतर्गत पाकिस्तान ने अपने कब्ज़े में स्थित कश्मीर का 5180 स्क्वेयर किलोमीटर हिस्सा चीन को सौंप दिया।


 चीन अरुणाचल प्रदेश के लगभग 90,000 स्क्वेयर किलोमीटर के भूमि क्षेत्र पर भी दावा करता है"। पिछले वर्ष गृह मंत्री अमित शाह ने अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के उपलक्ष्य में लोकसभा में दिये गए अपने व्याख्यान में भी स्पष्ट किया था कि वे पीओके के लिए जितने प्रतिबद्ध हैं, उतने ही वे अक्साई चिन की स्वतन्त्रता के लिए भी है।

इस समय भारत के पास अक्साई चिन को स्वतंत्र कराने का एक बेहद सुनहरा मौका है। भारत चाहे तो इसी दबाव का फायदा उठाकर चीन पर भारत के हितों की रक्षा करने का दबाव बना सकता है। इसी ओर इशारा करते हुए भारत के प्रसिद्ध सैन्य अफसर, लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ [सेवानिर्वृत्त] ने द क्विंट से अपनी बातचीत से बताया था, "सितंबर का महीना भारत के लिए बहुत अहम है। यदि भारत ने इसे पार कर लिया, तो फिर अक्टूबर से मार्च के बीच यदि चीन ने हमला करने का प्रयास भी किया, तो भारत उसे कहीं का नहीं छोड़ेगा"।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close