Breaking News

भारत के खिलाफ चीन की खतरनाक साजिश, बिना गोली चलाए ही जीतना चाहता है जंग

मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक चीन सरकार से जुड़ी हुई कंपनी झेन्‍हुआ चीन के शेनजेन शहर में स्थित है। इस चीनी कंपनी के विदेशी लक्ष्‍यों के डेटाबेस में भारत के 10 हजार लोग और संगठन शामिल हैं। यह कंपनी बिग डेटा का इस्‍तेमाल 'हाइब्रिड वॉरफेयर' और 'चीन के व्‍यापक कायाकल्‍प' के लिए काम करती है। इस कंपनी ने भारत में रियल टाइम निगरानी के लिए जिन लक्ष्‍यों की पहचान की थी, वे बड़े व्‍यापक थे। आइए जानते हैं क्‍या है हाइब्रिड वॉरफेयर और भारत के खिलाफ क्‍या है चीन का खतरनाक इरादा...



चीन की कंपनी राजनीति, सरकार, बिजनस, टेक्‍नॉलजी, मीडिया और सिविल सोसायटी को अपने निशाने पर लेती है। कंपनी का दावा है कि वह चीन की खुफिया एजेंसी, सेना और सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर काम करती है। यह चीनी कंपनी डिजिटल दुनिया में अपने टारगेट के हरेक कदम की बारीकी से नजर रखती है। इसके जरिए वह एक 'सूचना लाइ‍ब्रेरी' तैयारी करती है जिसमें कंटेंट को केवल न्‍यूज सोर्स, फोरम के रूप में नहीं रखा जाता है बल्कि दस्‍तावेज, पेटेंट, भर्ती के पदों की भी सूचना रखी जाती है।

महत्‍वपूर्ण बात यह है कि यह चीनी कंपनी एक-दूसरे से जुड़ाव का भी डेटाबेस तैयार करती है जिसमें लोगों, संस्‍थानों और सूचनाओं के साथ संबंध का रेकॉर्ड रखा जाता है। इस विशाल डेटाबेस को तैयार करने के पीछे चीन का मकसद अपने लक्ष्‍य को लेकर जनता के मन में क्‍या चल रहा है, उसका पता लगाना होता है। चीनी कंपनी सोशल मीडिया पर अपने लक्ष्‍य के किसी पोस्‍ट पर उसके फॉलोवर्स के क्‍या कॉमेंट आ रहा है और कितने लाइक आ रहे हैं, इसका विश्‍लेषण करती है। इसके अलावा चीनी कंपनी अपने लक्ष्‍य के कहीं आने जाने पर उसके भौगोलिक लोकेशन का आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की मदद से पता लगाती रहती है। विशेषज्ञों का कहना है कि विदेश कंपनी के इस तरह के डेटा को जुटाने पीछे एक खतरनाक मकसद छिपा हुआ है। यह है 'हाइब्रिड वॉरफेयर' जिसमें चीनी कंपनी खुद को विशेषज्ञ बताती है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close