Breaking News

घर के मंदिर पर चढाएं गए फूल और माला को हटाकर क्या करना चाहिये, जानिए आप भी

यदि आप भी अपने घर में बने मंदिर में पूजा पाठ करते हैं तथा उस दौरान फूल मालाओं का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए यह जनना जरूरी है कि उन फूलों को कैसे और कब मंदिर से बाहर निकालना चाहिए और कहां रखना चाहिए। हिन्दू धर्म के शास्त्रों में पूजा पाठ से संबंधी कई नियम दिए गए हैं जिनका पालन करना अनिवार्य होता है। माना जाता है कि यदि पूजा पूरे विधि विधान से किया जाए तो भगवान प्रसन्न रहते हैं और भक्तों पर अपनी कृपा दृष्टी बनाए रखते हैं।


हम और आप अक्सर मंदिर में पूजा करते हुए जो फूल चढ़ाते हैं उनके मुरझा जाने के बाद उन्हें उठाकर नदी में प्रवाहित कर देते हैं। जबकि ऐसा करना उचित नहीं होता है। विद्वानों के मुताबिक ऐसा करने से जल प्रदूषित होता है जिसे पाप माना जाता है। इसलिए मंदिर और भगवान पर चढ़ाए गए फूल और मालाओं को माथे से लगाकर उसे एकत्रिक कर लें। इसके बाद उन्हें एक ऐसे स्थान पर रख दे जहां से वह किसी के पैरों में न लगें।


शास्त्रों के अनुसार भगवान को अर्पित किए गए फूल व अन्य वस्तुएं बहुत पवित्र होती हैं। इसलिए किसी भी तरह से इसका अपमान नहीं किया जाना चाहिए। इन वस्तुएं के अपमान से व्यक्ति पाप का भागी बनता है क्योंकि इन वस्तुओं का अपमान भगवान के अपमान के समान माना जाता है। अतः कभी भी फूलों को कूड़े या रास्ते में नहीं फेकना चाहिए।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close