Breaking News

अगर सोने से पहले आप भी करते है मोबाइल का इस्तेमाल तो हो जाये सावधान, नही तो भुगतने पड़ सकते है बुरे अंजाम....

वनपोल सर्वे के मुताबिक, नींद विशेषज्ञों का कहना है कि रात में मोबाइल या किसी दूसरे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का इस्तेमाल करने से स्लीपिंग हार्मोन 'मेलाटोनिन' का उत्पादन डिस्टर्ब होता है, जिसकी वजह से लोगों को गहरी नींद नहीं आती. इतना ही नहीं अगर आप सुबह देर तक सोते रहते हैं तब भी आपको सुबह वो ताजगी नहीं महसूस होती है जो कि एक नींद पूरी होने के बाद मिलती है.



ब्रिटेन की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा के डॉ. रंज सिंह ने मीडिया से बातचीत में बताया कि आपको एक अच्छी नींद के लिए इस बात का जानना सबसे ज्यादा जरूरी है कि सोने से ठीक पहले किए जाने वाले काम का नींद पर क्या असर पड़ता है. सोने से पहले अगर हम भारी भोजन लेते हैं या फिर कैफेन युक्त पेय पीते हैं तो नींद में दिक्कत होती है इसके अलावा व्यायाम करके सोना भी अच्छी नींद में बाधा डालता है. इसी तरह से मोबाइल इस्तेमाल करने के बाद सोने से नींद लाने वाले कारक उतने सक्रिय नहीं हो पाते हैं.

डॉक्टर सिंह के मुताबिक आपको गहरी नींद के लिए टेलीविजन, मोबाइल या अन्य किसी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट से एक घंटे पहले ही दूरी बनानी चाहिए. क्योंकि इन गैजेट्स से निकलने वाली रोशनी दिमाग में उन हॉर्मोंस को प्रभावित कर देती है जिनके सक्रिय होने के बाद ही आप एक गहरी नींद ले सकते हैं इसलिए ऐसे में हमें सोने से ठीक एक घंटे पहले ही स्क्रीन से दूरी बना लेनी चाहिए ताकि हम एक अच्छी नींद ले सकें.

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close