Breaking News

भारत-जापान के बीच हुए समझौते के चक्रव्यूह में फंसा चालबाज चीन, इस क्षेत्र में शुरू हुई घेराबंदी

 भारत और जापान के बीच हुए समझौते के तहत अब दोनों ही देश एक दूसरे को सशस्त्र बलों (Armed forces) की सप्लाई और दूसरी कई सेवाओं का भी आदान-प्रदान करेंगे। इस समझौते के बाद पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के समकक्ष के बीच फ़ोन पर बातचीत हुई।



जापान के साथ सशस्त्र बलों को आपस में सेवाएं उपलब्ध कराने को लेकर दोनों देशों के बीच ऐसा समझौता पहली बार हुआ है। चीन के साथ बढ़ते हुए तनाव को देखते हुए ये समझौता काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है जो एक दम सही वक़्त पर हुआ है। इसके बाद हिन्द महासागर में भारत पहले से भी ज्यादा और मजबूत होगा और चीन की घेराबंदी के लिए भी दोनों देशों के बीच हुआ यह समझौता काफी अहम माना जा रहा है।

इस समझौते की ज्यादा जानकारी फ़िलहाल सामने नहीं आ पाई हैं लेकिन बताया जा रहा है कि समझौते के बाद अब जपनी सेनाएं अपने बेस पर भारतीय सेनाओं को जरुरी सामानों की सप्लाई कर सकेगी। इसके आलावा जापानी सेना भारतीय रक्षा सामनों की सर्विसिंग भी करेगी। ठीक यही सुविधा जापानी सेना को भारतीय सैन्य बेस पर भी मिला करेगी। यह समझौता उस वक़्त ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है जब देश युद्ध की स्थिति में हो। गौरतलब है कि ऐसा ही समझौता भारत ने ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, अमेरिका, ओमान और सिंगापुर से भी कर रखे हैं।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close