Breaking News

एक नागिन के श्राप के कारण इस गाँव में घरो पर नही लगते गेट, वजह जानकर रह जाओगे दंग

आज भी कई गाव है जहां पर परंपराओं को अधिक महत्व दिया जाता है महाराष्ट्र में शनि शिगणापुर गांव में लोग आज भी ताले नहीं लगाते.उस गांव में शनि देव की कृपा से कोई भी चोरी नहीं होती है लोगों के मन में भगवान शनिदेव के प्रति आस्था आज भी बरकरार है और उसी आस्था के चलते लोग वहां पर अपने घरों में ताले नहीं लगाते हैं एक ऐसे ही परंपरा प्रतापगढ़ के ग्रामीणों में भी है उन घरों में लोग दरवाजे नहीं लगाते हैं



 यह परंपरा सदियों से चली आ रही है और आज भी इस परंपरा को निभाया जा रहा है इस परंपरा के पीछे एक अजीब सी कहानी प्रसिद्ध है. लोगों का ऐसा मानना है कि हजारों वर्षो से लोग अपने घरों में दरवाजे इसलिए नहीं लगाते हैं क्योंकि एक नागिन ने उन्हें श्राप दिया था ग्रामीणों का ऐसा मानना है कि हजारों वर्षों पहले जब उनके पूर्वज दरवाजा बंद कर रहे थे तो चोखट में दबकर एक नागिन का बच्चा मर गया था अपने बच्चे का विलाप करते हुए नागिन ने उनके पूरे कुल को श्राप दिया था कि अगर कोई भी घरों में दरवाजा लगाएगा तो उसके वंश का विनाश निश्चित हो जाएगा और उसे धन की भी हानि होगी और परिवार में कोई भी सुखी नहीं होगा.

श्राप के कारण आज भी वहां के व्यक्ति अपने घरों में दरवाजा नहीं लगाते हैं और उन्होंने इसे एक परंपरा के नाम पर ही अपना लिया है अभी कोई इस परंपरा को नहीं मानता है तो उसके परिवार में कुछ अनहोनी जरूर ही होती है किसी का भाई मृत्यु की चपेट में आ जाता है तो किसी का पिता हालाकि घर से दरवाजा निकाल देने के बाद सब कुछ ठीक हो जाता है.प्रतापगढ़ जिले के सुडामऊ गांव के कच्चे पक्के मकान सैकड़ों ऐसे घर है जहा उनके घरों में दरवाजे नहीं है वहां के लोग इस बात को परंपरा के तौर पर अपनाते हैं.

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close