Breaking News

ये है भारत का अनोखा गाँव, जिसको कहा जाता है दामादो का गाँव, वजह जानकर रह जाओगे दंग

हमारे हिंदुस्तानी समाज में लड़कियों का बेहद महत्व है और उनको शादी के बाद अपने पति के घर जाना होता है यानि अपने ससुराल, मगर भारत में हर जगह की अपनी ही खासियत है और अपने ही रिवाज हैं। उत्तर प्रदेश के कौशांबी में एक गांव है हिंगुलपुर ये गांव दामादों के गांव के तौर पर अपनी अलग ही पहचान लिए है।

ऐसा भी समय था जब हिंगुलपुर गांव कन्या भ्रूण हत्या और दहेज हत्या में बहुत आगे था, लेकिन आज के समय में इस गांव ने अपने बेटियों को बचाने के लिए अनूठा तरीका अपनाया है। दशकों पहले गांव के बुजुर्गों ने लड़कियों को शादी के बाद मायके में ही रखने का फैसला किया। गांव का मुस्लिम समुदाय भी इस तरीके को अपना लिया है। हिंगुलपुर गांव की लड़कियों रिश्ते की बात में ये एक अहम शर्त होती है।

गांव में आने वाले दामादों को भी रोजगार मिल सके, इसकी व्यवस्था गांववाले मिलकर करते हैं बताते हैं कि इस गांव में आसपास के जिलों जैसे कानपुर, फतेहपुर, प्रतापगढ़, इलाहाबाद आदि जिलों के तमाम दामाद रह रहे हैं और यहां एक ही घर में दामादों की पीढ़ियां बसी हुई हैं दामाद का ख्याल रखने के साथ ही यहां लड़कियों की पढ़ाई-लिखाई पर खास जोर दिया जाता है और पढ़ाई के बाद उन्हें कोई न कोई हुनर जैसे सिलाई-बुनाई भी सिखाई जाती है ताकि वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनी रहें और किसी पर निर्भर ना रहें।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close