Breaking News

लव जिहाद : नाम बदलकर की दोस्ती, मीठी-मीठी बातें करके प्रेम जाल में फंसाया, एक साल बाद हुआ बच्चा तो होने के बाद छोड़ गया, कहा पूजा-पाठ करना है तो अपने बाप के घर चली जाओ

उक्त युवती ने अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर उस युवक से ब्याह किया था। उस युवक की पहचान मोईनुद्दीन कुरैशी के तौर पर हुई है। युवती के आरोप हैं कि, कुरैशी ने मीठी-मीठी बातें करके प्रेम जाल में फंसाया। पहली बार दोनों की मुलाकात एक शॉपिंग मॉल में हुई थी। वहीं से दोस्ती और ​फिर प्यार हुआ। दोनों ने आपस में शादी का फैसला कर लिया, लेकिन परिवार राजी नहीं हुआ।

वर्ष 2017 में दोनों ने कोर्ट में लव मैरिज कर ली। कोर्ट मैरिज के दौरान दोनों ने एफिडेविट में लिखा था कि दोनों अपने-अपने मजहब को फॉलो करेंगे और यह सहमति बनी रहेगी। किसी को भी इसमें कोई एतराज नहीं होगा। युवती मॉल में अच्छी-खासी जॉब करती थी। उसके पास कई बैंकों के क्रेडिट कार्ड थे। वहीं, कुरैशी हैंडसम युवक था। शादी के बाद दोनों खुश थे।

वह कहता था मेरे घर पर यह सब नहीं चलेगा। पूजा-पाठ करना है तो अपने बाप के घर चली जाओ। और, जो बच्चा हुआ है, उसे इस्लाम के तहत तालीम दी जाएगी। बच्चे का नाम मुस्लिम रखने के लिए भी उसने कई बार झगड़ा किया था। जब कोरोना फैला तो लॉकडाउन के दौरान मेरी नौकरी चली गई। जबकि, पति कुरैशी पहले से ही कोई काम-धंधा नहीं कर रहा था। जो भी पैसा मेरे अकाउंट्स में था, वो सब खर्च कर डाला।

युवती का कहना है कि, ''पति मेरे ही पैसे खर्च करता था। कुछ समय बाद ही उसने तरह-तरह से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। वो अक्सर नए-नए मोबाइल खरीदता था और बहुत घूमता-फिरता था। एक खाते से उसी ने 6.50 लाख खुद पर खर्च कर दिए। युवती के मुताबिक, पति मोइनुद्दीन की नजर मेरी सैलरी पर ही रहती थी। यह बात वह बाद में समझने लगी। शादी के करीब डेढ़ साल बाद तो वह मुझे पूजा-पाठ से भी मना करने लगा।''

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close