Breaking News

चीन और ईरान साथ मिलकर रूस के साथ युद्ध अभ्‍यास करने की बना रहे थे योजना, ट्रंप के एक अटैक ने किया, दोनों चारो खाने चित्त...

चीन और ईरान इस समय मिलकर रूस के साथ युद्ध अभ्‍यास करने की योजना बना रहा है, जिसके बाद इन दोनों देशों को लग रहा है कि शायद वह अमेरिका को टक्‍कर दे सकते हैं। ऐसे में अमेरिका ने B2 स्ट्रील्थ बॉम्बर्स को चीन की आंखों के सामने हिंद महासागर में बने डियागो गार्सिया एयरबेस में भी तैनात किया है।

Donald Trump Calls Iran Attack On Us Drone A 'big Mistake' - ट्रंप बोले-  अमेरिकी ड्रोन गिराकर ईरान ने 'बड़ी गलती' की, वॉशिंगटन और तेहरान के बीच बढ़  सकता है तनाव -

एक तरफ ताइवान स्ट्रेट और साउथ चाइना सी में चीन से टेंशन और दूसरी तरफ मिडिल ईस्ट में नया रण तैयार हो रहा है, लेकिन ट्रंप के एक अटैक ने चीन और ईरान को चारों खाने चित्त कर दिया है। ट्रंप ने अपना ब्रह्मास्त्र निकाल लिया है और उसे चीन और ईरान के बिल्कुल बीचों बीच तैनात कर दिया है।

डियागो गार्सिया में महाघातक बॉम्बर B2 स्प्रिट स्टील्थ की तैनाती से अमेरिका ने चीन और ईरान को एक साथ सख़्त संदेश दे दिया है। क्योंकि ईरान-चीन और रूस के बीच सैन्य सहयोग तेज़ी से बढ़ने लगा है। ये तीसरे विश्वयुद्ध की मोर्चेबंदी है और दूसरी तरफ ईरान और अमेरिका के बीच टेंशन हर लिमिट को क्रॉस कर चुकी है। बी-टू बॉम्‍बर जैसे अजेय विमान का डियागो गार्सिया जैसी जगह पर तैनाती का मतलब है कि यहां से अमेरिका चीन और ईरान दोनों को कंट्रोल कर सकता है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close