Breaking News

सुशांत सिंह की मौत हो रही थी और उधर चल रही थी रकम की डील,खुल गयी व्हाट्सएप चैट,सामने आई ऐसी सच्चाई जानकर.....

अभी तक सुशांत सिंह राजपूत की मौत का सही समय सामने नहीं आया है। क्योंकि ऑटोप्सी रिपोर्ट में मौत के समय का कोई ज़िक्र ही नहीं है और मुंबई पुलिस ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है। सुशांत के दोस्त कुशल ने ठीक उसी दिन 
लगभग 2:48 मिनट पर संदेश (रिप्लाई) भेजा ‘भाई सुरक्षित है, प्लीज़ हाँ या ना में बताओ?’ इसके बाद कुशल ने दीपेश को 3:34 पर संदेश भेजा ‘भाई हम बाहर हैं अगर कोई परेशानी हो तो बता सकते हो।’ इस बातचीत से भी कई तरह के सवाल खड़े होते हैं, जो व्यक्ति कथित तौर पर आत्महत्या करने जा रहा है, उसे एक ई कॉमर्स डील की चिंता क्यों हो रही थी।
सुशांत सिंह राजपूत मामले में एक और नया खुलासा हुआ है। सीबीआई ने जाँच में पाया है कि सुशांत सिंह राजपूत के साथी सिद्धार्थ पिठानी, उनके बावर्ची नीरज और दीपेश सावंत के बयानों में काफी अंतर है।
ख़बरों के मुताबिक़ 14 जून 2020 को दीपेश सावंत ने सुशांत सिंह के दोस्त कुशल जावेरी को संदेश भेजा और यह संदेश एक ई कॉमर्स डील के संबंध में था। हैरानी की बात यह है कि दीपेश ने सुशांत सिंह की मौत के कुछ ही समय बाद संदेश भेजा था। ठीक उस वक्त जब सुशांत के घर पर मौजूद तमाम लोग बंद दरवाज़ा खटखटाते हुए परेशान हो रहे थे।
इसके अलावा 9 से 14 जून के बीच जितनी भी व्हाट्सएप चैट बरामद हुई हैं। उनके आधार पर 14 जून के घटनाक्रम पर कई तरह के सवाल खड़े होते हैं।
रिपब्लिक टीवी की खबर के मुताबिक़ सुशांत के दरवाज़ा न खोलने पर मचे शोर के बावजूद दीपेश उन्हें एक ब्रांड डील के संबंध में मैसेज कर रहा था। जबकि इसके पहले उसके द्वारा किए गए दावे इस जानकारी से पूरी तरह अलग थे। जिसके बाद 14 जून को हुए घटनाक्रम को लेकर शक का दायरा बढ़ जाता है।
यहाँ तक कि सुशांत के बावर्ची नीरज ने दावा किया था

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close