Breaking News

बन गयी कोरोना की दवा रिसर्चर्स ने किया बड़ा दावा, कहा इस दवा से कोरोना के उन मरीजों को ठीक किया जिन्हें वेंटिलेटर की जरूरत थी

रिसर्चर्स का कहना है कोरोना के 7 मरीजों की हालत बेहद खराब थी। इन्हें वेंटिलेटर और ऑक्सीजन थैरेपी दी जानी थी। मरीज को यह दवा इंजेक्शन के रूप में दी गई। इससे संक्रमण के बाद शुरू हुए साइटोकाइन स्टॉर्म पर भी काबू पाया गया।


रिसर्चर्स के मुताबिक, एक्टेमरा में एंटी-इंफ्लेमेट्री खूबी है। यह संक्रमण के कारण आई सूजन को भी दूर करती है। इसके साथ बेकाबू हुए इम्यून सिस्टम को भी कंट्रोल करती है। दवा देने के बाद कोरोना के गंभीर मरीजों की हालत में सुधार दिखा है।

यह वह स्थिति है जब शरीर को बचाने वाला इम्यून सिस्टम (रोग प्रतिरोधी तंत्र) नुकसान पहुंचाने लगता है। यह या तो बहुत तेज काम करने लगता है या बहुत धीमा हो जाता है। नतीजा फेफड़ों में सूजन और पानी भर जाता है। सांस लेना मुश्किल होने लगता है। अगर समय पर कंट्रोल नहीं हुआ तो मरीज की मौत हो सकती है।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close