Breaking News

कुर्सी बचाने के लिए, जिनपिंग मांगे जंग, लद्दाख के लिए PLA का बड़ा प्लान, WAR को ड्रैगन पूरी तरह तैयार


न्यूज वीक का दावा है कि जिनपिंग की मंजूरी से ही LAC पर चीनी सेना आक्रामक है और जिनपिंग ही सीमा पर बढ़े तनाव के असली 'वास्तुकार' हैं। साथ ही न्यूज वीक ने बड़ा खुलासा किया है कि अप्रैल में रूस ने चीनी युद्धाभ्यास को लेकर भारत को भरोसा दिलाया था कोई खतरा नही है लेकिन चीनी सैनिकों ने धोखे से गलवान में हमला किया।



इसके साथ ही अमेरिकी पत्रिका न्यूज वीक के इस लेख में कहा गया है कि 15 जून को गलवान में हुई झड़प में चीन के 60 से ज्यादा सैनिक मारे गए। दुर्भाग्य से चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ही भारतीय क्षेत्र में आक्रामक मूव के आर्किटेक्ट थे, लेकिन उनकी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) इसमें फ्लॉप हो गई। इसके बावजूद वो दोबारा भारत पर अटैक कर सकती है।

शायद यही वजह है कि चीन का भोंपू अखबार ग्लोबल टाइम्स लगातार भड़काउ बयान दे रहा है। ग्लोबल टाइम्स का एक बयान सामने आया है। ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि बॉर्डर पर भारत और चीन के बीच का गतिरोध बहुत लंबा चलने वाला है और चीनियों को धैर्य रखने की ज़रूरत है।

ये पहला मौका नहीं है जब जिनपिंग सरकार अपने सरकारी अखबार के जरिए भारत को धमकी दी हो। पिछले दिनों ग्लोबल टाइम्स ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा था कि उसको पैंगॉन्ग त्सो से अविलंब अपनी सेना हटा लेनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो चीनी सैनिक ठंड के मौसम में भी वहां से नहीं हटेंगे।


बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close