Breaking News

भारत-जापान का सैन्य समझौता-दोस्त मोदी के लिए जापानी PM शिंजों आबे का आखिरी तौफ़ा, मोदी जी ने कहा वो हमरे लिए ...

देश के प्रधानमंत्री पद से जाते-जाते भी उन्होंने जापान-भारत के रिश्ते और ज़्यादा मजबूत करने वाले एक बेहद महत्वपूर्ण सैन्य समझौते Acquisition and Cross-Service Agreement पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते को पीएम मोदी के लिए उनका आखिरी तौफ़ा भी कहा जा सकता है।जापान Quad का वह आखिरी सदस्य है, जिसके साथ भारत ने Logistics Support Agreement पर हस्ताक्षर किए हैं।

इसके बाद जापान और भारत की सेनाओं को एक दूसरे के military bases का इस्तेमाल करने की छूट मिल जाएगी। शिंजों आबे के नेतृत्व में जापान ने चीन को एक बड़ा खतरा माना है। हाल ही में जापान के रक्षा मंत्री तारो कोनो भी चीन को जापान की सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा घोषित कर चुके हैं।

 ऐसे में भारत के साथ यह सैन्य समझौता दिखाता है कि अपनी सुरक्षा को मजबूत करने और चीन पर दबाव बनाने के लिए ऐसे कदम उठा रहा है। भारत के लिए भी यह कदम इसीलिए अति-महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे भारतीय नेवी आसानी से जापानी जलसीमा के आसपास और दक्षिण चीन सागर में आसानी से operate कर पाएगी। बता दें कि भारत पहले ही ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के साथ ऐसे सैन्य समझौतों पर हस्ताक्षर कर चुका है।
बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close