Breaking News

UN में पाकिस्तान पर जमकर बरसा भारत, कहा पाकिस्तान की 70 सालों में उपलब्धि है आतंकवाद और कट्टरपंथ


भारत ने संयुक्त राष्ट्र में 'राइट ऑफ रिप्लाई' का प्रयोग करते हो इमरान खान के विष घोलने वाले बयान के जवाब में कहा कि 70 सालों के इतिहास में संयुक्त राष्ट्र के इस मंच ने एक नई गिरावट देखी। संयुक्त राष्ट्र सभा ने आज एक ऐसे व्यक्ति को सुना जिसके पास उपलब्धि के तौर पर दिखाने के लिए कुछ नहीं है। उसके पास दुनिया को देने के लिए कोई सुझाव नहीं है। इसके बजाय वह इस मंच का प्रयोग झूठ, गलत सूचना और द्वेष फैलाने के लिए कर रहा हैं। इमरान खान वही व्यक्ति हैं जिन्होंने ओसामा बिन लादेन को अपनी संसद में शहीद कहा था।

संयुक्त राष्ट्र में भारतीय मिशन के प्रथम सचिव मिजितो विनितो ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न और अविभाज्य अंग है। जम्मू और कश्मीर के लिए बने नियम और कानून पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है। कश्मीर को लेकर अब सिर्फ एक ही विवाद है कि भारत के एक हिस्से पर पाकिस्तान का अवैध कब्जा। हम पाकिस्तान से अवैध कब्जे वाले इलाके को तुरंत छोड़ने की मांग करते हैं।

मिजितो विनितो ने कहा कि पाकिस्तान सूचीबद्ध आतंकियों को धन मुहैया कराता है। एक अमेरिकी रिपोर्ट में 2019 में कहा गया था कि पाकिस्तान में 30 से 40 हजार आतंकवादी हैं जिन्हें प्रशिक्षण देकर अफगानिस्तान और जम्मू-कश्मीर भेजा जाता है। पाकिस्तान में ईशनिंदा कानून है और वहां जबरन धर्म परिवर्तन करके हिंदू, ईसाई, सिख और अन्य मतपंथों को खत्म करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक तरफ मुसलमानों का हिमायती होने का दावा करता है, वहीं उसके यहां मुसलमानों को ही मारा जाता है क्योंकि वह एक संप्रदाय से जुड़े हुए हैं।

बेरोजगार नौकरी से परेशान हो तो सरकार ने आपके लिए 45000 से अधिक पदों पर निकाली भर्ती, 8th/10th पास करे आवेदन, यहाँ क्लिक करें
close